ज़िन्दगी

क्या पता कब कहाँ से मारेगी,

बस की मैं ज़िन्दगी से डरता हु…

 

मौत का क्या है, एक बार मारेगी !

 

-gulzar